Namak KE BEST 9+ UPYOG

Namak KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE

नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में आप जानने वाले हो Namak ke Best 9+ upyog  जो आपके बहुत काम सकती है।  इसलिए आप से  निवेदन है की आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

कई बार हमारे पास Namak   होता तो है पर उसके उपयोग हमें पता नहीं होते  ऐसे में हमको कई बार इसका उपयोग करना पड़ता है।  इसलिए हम आपको बताने वाले है Namak के उपयोग।

Namak KE BEST 9+ UPYOG
Namak KE BEST 9+ UPYOG+36

 

अन्य भाषाओं में Namak के नाम

संस्कृतसैंधव , शीतशिव

बंगालीसैंधव लवण , सांभर सौवर्चल , शाकम्भरीय लुण , संचर लवण

हिन्दीसैंधानमक ,

अंग्रेजीक्लोराइड ऑफ सांभर नोन , काला नमक सोडियम , ब्लैक साल्ट , साल्ट

गुजरातीसिंधालुण , सांभर

लैटिनसोडी क्लोराइडम , सोडी , मुरास , लून , संचर लवण अनॅक्वा सोडी क्लोराइडम

परिचय

Namak शरीर के लिए एक आवश्यक तत्व है यह भोजन का स्वाद ही नहीं बढ़ाता बल्कि तमाम रोगों को ठीक करता है।शरीर के लिएइसकी मूलभूत आवश्यकता तो है ही इसके साथ ही यह पूरी शारीरिक कार्यप्रणाली को दुरुस्त रखने में भी उपयोगी है Namak में ऐसेऔषधीय गुण पाए जाते हैं जिससे शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है

नमक तीन प्रकार का होता है– 1. साधारण Namak  , सेंधानमक या लाहौरी नमक , 3. काला नमक

दैनिक जीवन में प्रायः साधारण Namak  का ही इस्तेमाल किया जाता है व्रतउपवास औषधि रूप में सेंधानमक काले नमक काइस्तेमाल किया जाता है साधारण नमक की उत्पत्ति समुद्री पानी से होती है जबकि सेंधानमक खानों से काला नमक पहाड़ियों सेप्राप्त होता है

नमक के जहाँ अनेक लाभ हैं , वहीं इसका अत्यधिक सेवन स्वास्थ्य को हानि पहुँचा सकता है कुछ बीमारियों में तो नमक का अधिकसेवन जानलेवा हो सकता है कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों को नमक का सेवन नहीं करना चाहिए चर्म रोगी को भी नमक का सेवन कमही करना चाहिए क्योंकि इससे त्वचा में खुजली चलती है

प्रयोग

नमक का प्रयोग औषधीय रूप में भी किया जाता है इसके प्रयोग से अनेक बीमारियों में लाभ होता है जैसे मोच आना , गले में दर्द , जुकाम , त्वचा के रोग आदि

विभिन्न रोग उपचार

दंत रोग

दाँत दर्दवाले स्थान परपिसा सेंधा नमक मलें।आराम होगा

दाँत दर्द में सरसों के तेल में पिसा नमक मिलाकर दाँत पर लगाने से दर्द में राहत मिलती है मसूड़ों की सूजन दूर होती है

पायरिया होने पर सेंधानमक या साधारण नमक को फिटकरी के साथ मिलाकर दिन में तीन बार दाँतों पर मलने और गुनगुने पानी में इसमिश्रण को डालकर दोतीन बार कुल्ला करने पर कुछ ही दिनों में पायरिया ठीक हो जाता है

आधा गिलास गरम पानी में आधा चम्मच नमक डालकर कुल्ला करने से दाँत में दर्द , दाँत में कीड़ा लगना , टीस चलना बन्द हो जाता है

कान का दर्द

एक कप पानी में तीन चम्मच नमक मिलाकर गरम कर लें ठण्डा हो जाने पर 1-1 बूँद कान में डालें इससे कान का दर्द , कान काबहना , मवाद आना ठीक हो जाता है

कान में कीड़ा चला जाना

कान में कोई कीटपतंगा चला गया हो तो पानी में नमक मिलाकर कान में डालें।कीड़ा मरकर बाहर जाएगा पानी डालकर कुछ देरबाद , कान को उल्टा कर दें

कब्ज़

प्रतिदिन 1 गिलास पानी में 1 चम्मच नमक डालकर , रोज़ रात को सोते समय पीने से कब्ज दूर होता है

रात में ताँबे के लोटे में जल लेकर उसमें 20 ग्राम सेंधा नमक डालकर पीने से खट्टी डकार , बदहज़मी और कब्ज़ की शिकायत दूर होजाती है

उदर कृमि

प्रतिदिन 1 गिलास गरम पानी में 1 चम्मच नमक डालकर प्रातःकाल पीने से पेट के कृमि नष्ट हो जाते हैं

खुजली

सरसों के तेल में नमक मिलाकर शरीर पर मलने से खुजली खुश्की से बचाव होता है

पैरों में सूजन

गुनगुने पानी में नमक डालकर उसमें कुछ देर पैर रखने या उस पानी से पैर धोने से सूजन दूर होती है

जलने पर

जले हुए स्थान पर Namak  मिला हुआ ठण्डा पानी डालने से जलन शान्त होती है

मूच्छा

सेंधानमक के गाढ़े घोल की 1-2 बूंद नाक में टपकाने से मूर्छा समाप्त हो जाती है

मिर्गी

1 गिलास पानी में 1 चम्मच Namak डालकर , रोगी को रोज़ पिलाने से मिर्गी के दौरों में कमी जाती है

थकान

थकान होने पर गुनगुने पानी में Namak डालकर , उसे टब में डालकर दोनों पैर डुबोकर कुछ देर बैठ जाएँ या इस पानी से स्नान कर लें पूरेशरीर की थकान मिट जाएगी।

पैरों में थकान होने या दर्द होने पर घुटनों के ऊपर से Namak मिला हुआ गुनगुना पानी डालें , राहत मिलेगी

चेहरे की सफाई

यदि चेहरे पर मैल जम गया हो तो कच्चे दूध में थोड़ा सा Namak मिलाकर मालिश करें।चेहरा कांतिवान हो जाएगा।

कीलमुँहासे

अदरक के रस में Namak मिलाकर रात को कीलमुंहासों पर लेप लगाएँ कुछ दिन ऐसा करने से कीलमुँहासे खत्म हो जाएँगे

झुर्रियाँ

चेहरे पर झुर्रियाँ पड़ गई हों तो गरम पानी में Namak डालकर रूई या कपड़े से चेहरे की सिकाई करें

शरीर में पानी की कमी

दस्त से शरीर में पानी की कमी हो जाने पर , पानी में 1 चुटकी Namak डालकर पीने से पानी की पूर्ति होती है

पीठ दर्द

आधा चम्मच पिसा हुआ काला Namak , दिन में दो बार पानी के साथ लें , पीठ दर्द मिट जाएगा

गठिया

सरसों के तेल में थोड़ासा सेंधानमक मिलाकर मालिश करें , लाभ होगा

सिरदर्द

1 चुटकी Namak चाटकर , 10 मिनट बाद 1 गिलास पानी पीने से सिरदर्द दूर हो जाता है

गुनगुने पानी में थोड़ासा Namak डालकर , कनपटी और सिर पर इस पानी से भीगे कपड़े को निचोड़कर रखना चाहिए सिरदर्द में आराममिलता है

जुकाम

तुलसी के रस में Namak डालकर , नाक में टपकाने से जुकाम ठीक होता है सा घी में Namak मिलाकर छाती पर मालिश करें , लाभ होगा

हिचकी

नीबू और शहद के साथ 1 चुटकी काला Namak मिलाकर सेवन करने से हिचकी रुक जाती है

पेट दर्द

नीबू , अजवायन , Namak मिलाकर सेवन करें , पेट दर्द में लाभ होगा

अपच

अदरक के टुकड़े पर नींबूका रस और सेंधानमक छिड़ककर सेवन करने से भूख खुलती है अपच दूर होती है

रखाँसी

मलाई में थोड़ासा Namak मिलाकर चाटने से खाँसी में लाभ होता है गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करने से खाँसी में राहत मिलतीहै

कफयुक्त खाँसी होने पर सेंधेनमक की डली चूसते रहें , कफ ढीला होकर निकल जाएगा और खाँसी में राहत मिलेगी सरसों के तेल मेंथोड़ासा नमक मिलाकर छाती पर मालिश करें , खाँसी में फायदा होगा

शरीर की कमजोरी

लम्बी बीमारी के बाद शरीर में कमजोरी महसूस हो रही हो तो पानी में थोड़ासा नमक डालकर स्नान करें

जीभ के छाले

नमक और सफेद सरसों पीसकर छालों पर लगाएँ और कुछ देर बाद लार टपकाएँ छाले मिट जाएँगे

बुरवार

यदि साधारण बुखार हो तो गरम पानी में चौथाई चम्मच नमक डालकर पिलाने से लाभ होगा

Laung KE BEST 9+ UPYOG

Namak KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE

1 thought on “Namak KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE”

  1. Pingback: Jeera KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE - allmovieinfo.net

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *