Laung KE BEST 9+ UPYOG

Laung KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE

नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में आप जानने वाले हो laung ke Best 9+ upyog  जो आपके बहुत काम सकती है।  इसलिए आप से  निवेदन है की आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

कई बार हमारे पास laung   होता तो है पर उसके उपयोग हमें पता नहीं होते  ऐसे में हमको कई बार इसका उपयोग करना पड़ता है।  इसलिए हम आपको बताने वाले है laung के उपयोग।

Laung KE BEST 9+ UPYOG
Laung KE BEST 9+ UPYOG

अन्य भाषाओं में laung के नाम

संस्कृत- लवंग , देवकुसुम
तेलुगु- लवंगलू
हिन्दी – laung
तमिल – किरम्वेर
गुजराती – लविंग
अंग्रेजी – क्लोब्ज
मराठी- लवंग
लैटिन – कैरियोफिल्लस ऐरोमेटिक्स
बंगाली- लवंग

परिचय

laung का उपयोग हर परिवार में होता है । इसका उपयोग मुखशुद्धि , मसालों व पान में भी किया जाता है । गरम मसाले में भी इसका प्रयोग किया जाता है । लौंग औषधीय गुणों से भरपूर है ।

हमारे देश में दक्षिण के तटीय भाग में laung पैदा होती है । इसका मूल स्थान मलक्का द्वीप है । यह मॉरीशस , श्रीलंका , जंजीबार , पिनांग आदि द्वीपों में भी पाई जाती है । भारत के दक्षिण में केरल में लौंग की खेती की जाती है ।

लौंग के वृक्ष बहुत सुन्दर और सुगन्धित होते हैं । इसकी पत्तियाँ सुगन्धित होती हैं । इसके फूल की कलियाँ laung के रूप में पैदा होती हैं । लौंग के वृक्ष पर जो सुगन्धित फूल लगते हैं उनकी कलियों को तोड़कर सुखा लेते हैं । इन्हें ही लौंग कहा जाता है । laung  का तेल भी निकाला जाता है । इसके तेल में यूजीनोल नामक तत्व पाया जाता है जिसे दाँत दर्द में लगाने से तुरन्त लाभ मिलता है।

प्रयोग

लौंग के सेवन से मुख में लाला रस और आमाशय में पाचक रसों का स्राव होता है , जिससे पाचनशक्ति प्रबल होती है । लौंग सड़न को रोकती है और इसको नष्ट करती है । laung मूत्राशय से मूत्रनलिका मुख तक के मार्ग को शुद्ध करती है।गुर्दो को उत्तेजित करती है , जिससे पेशाब खुलकर होने लगता है । लौंग के सेवन से रक्तसंचार , हृदय और श्वास प्रश्वास की क्रिया को बल मिलता है ।

विभिन्न रोग व उपचार

सिर दर्द

laung को पानी में पीसकर माथे पर लेप करने से सिरदर्द तुरन्त मिट जाता है ।

3-4 laung पानी में उबालकर पीने से सिरदर्द ठीक हो जाता है ।

गरम पानी में laung का चूर्ण डालकर गरारे करने से कफ के कारण उत्पन्न सिरदर्द समाप्त हो जाता है ।

लौंग को पीसकर सरसों या नारियल के तेल में मिलाकर माथे पर लेप करें । सिर दर्द दूर हो जाता है ।

5-6 बूंद laung का तेल समभाग घी या नारियल के तेल में मिलाकर माथे पर लगाने से सिरदर्द में आराम होता है।

जुकाम

3 लौंग , 5 काली मिर्च व बताशे , तीनों को पीसकर , उबालकर पीने से जुकाम में आराम आता है ।

1 गिलास गरम पानी में 3-4 laung व 1 चुटकी नमक डालकर पीने से नज़ले – जुकाम में लाभ होता है ।

लौंग का काढ़ा पीने से जुकाम ठीक हो जाता है ।

बुरवार

लौंग व चिरायता समभाग लेकर पानी में पीसकर पीने से ज्वर तथा ज्वरजन्य दुर्बलता दूर हो जाती है ।

2 रत्ती laung का चूर्ण दिन में 3 बार गरम पानी से लेने से ज्वर में लाभ होता है ।

लौंग के साथ तुलसी के पत्ते पीसकर लेने से बुखार तथा सिरदर्द में लाभ होता है ।

हिचकी

2-3 laung चबाकर ऊपर से थोड़ा – सा पानी पी लें । हिचकी में फायदा होगा ।

मुँह में लौंग रखकर चूसें , हिचकियाँ आनी बन्द हो जाएँगी ।

गैस बनना

2 laung पीसकर आधा कप पानी में उबालें । ठण्डा होने पर पी लें । नित्य 3-4 बार इसे पीने से गैस बननी समाप्त हो जाती है ।

दंत रोग

laung को दाढ़ के नीचे रखने से दाँत दर्द दूर हो जाता है ।

दाँत दर्द दूर हो जाता है । 1 गिलास पानी में 5-6 लौंग उबालकर रोज़ 3 बार धीरे – धीरे laung चबाने से दाँत दर्द में लाभ होता है व दाँतों की चीस मिटती है ।

लौंग के तेल को गुनगुना करके या ठण्डा ही मसूड़ों पर लगाने से मसूड़ों की सूजन दूर होती है तथा मसूड़ों को आराम मिलता है । कीड़ा लगे दाँत पर लौंग का तेल रूई के फाहे से लगाएँ अथवा दाँत के नीचे laung दबाकर रखें।

साँस की दुर्गन्ध

लौंग को मुँह में रखकर चूसने से मुख और साँस की दुर्गन्ध मिटती है । विकृत गला ठीक होता है व दाँत दर्द में राहत मिलती है ।

भोजन के बाद एक लौंगखाने से मुँह की दुर्गन्ध मिटती है।

पायरिया

दाँतों पर laung के तेल की मालिश करने और लौंग चूसते रहने से पायरिया में फायदा होता है ।

नेत्र रोग

ताँबे के बर्तन में laung को पीसकर उसमें थोड़ा – सा शहद मिलाकर अंजन करने से नेत्र के सफेद भाग के अनेक विकार नष्ट हो जाते हैं ।

चक्कर आना

अक्सर वृद्धावस्था में चक्कर आने की शिकायत रहती है । सिर चकराने पर आधा गिलास पानी में 2 laung उबालकर पीने से लाभ मिलता है ।

गठिया

लौंग के तेल की मालिश करने से गठिया व जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है ।

फोड़े – फुसी

फोड़े – फुसियों या त्वचा की सूजन में laung का चंदन के साथ लेप करने से वेदना मिटती है एवं ज़ख्म जल्दी भरता है ।

गुहेरी

लौंग को पानी में घिसकर लगाने से आँख की पलकों पर होने वाली फुसी ( गुहेरी ) बैठ जाती है तथा सूजन भी कम हो जाती है ।

पेट दर्द

अजीर्ण के कारण पेट दर्द होने पर लौंग का चूर्ण 1-1 चम्मच , गरम पानी से 2-3 बार लेने से पेट दर्द में आराम मिलता है ।

खाँसी

अदरक का रस , शहद एवं पिसी लौंग मिलाकर चाटने से खाँसी दूर होगी । लौंग व अनार के छिलके समभाग मिलाकर , पीसकर , शहद के साथ चाटें । खाँसी में आराम आएगा ।

रात को सोने से पूर्व 8-10 भुनी लौंग खाने से खाँसी और दमे में लाभ होता है । भुनी हुई लौंग शहद के साथ मिलाकर चाटने से भयंकर कुकर खाँसी भी ठीक हो जाती है । लौंग को गरम करके मुँह में रखकर चूसने से खाँसी में शीघ्र लाभ होता है ।

हैज़ा

हैजा हो जाने पर प्यास तीव्रता से बढ़ गई हो तो पानी में 2 सकती है , प्यास कम होती है और पेशाब खुलकर आ जाता है ।

अफारा

औंसलौंग के फांट में 10 रत्ती सोडाबाईकार्ब मिलाकर पीने से पेट का अफारा तुरन्त दूर हो जाता है ।

कब्ज

2 ग्राम लौंग , 2 ग्राम सोंठ , 20 ग्राम सनायपत्ती , तीनों को मोटा – मोटा कूटकर , 1 गिलास उबलते पानी में डालकर , ढककर रख दें । 1 घण्टे बाद छानकर पीएँ । इससे कब्ज़ , अपच , अफारा व पेटदर्द आदि रोग दूर होते हैं ।

Laal mirch KE BEST 9+ UPYOG

Laal mirch KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE

1 thought on “Laung KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE”

  1. Pingback: Namak KE BEST 9+ UPYOG JO AAPKO JANNA CHAIYE - allmovieinfo.net

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *